About us - Privacy Policy - Terms & Conditions - Contact us - Guest Posting

क्या आप भी income tax के दायरे में आते है? तो कैसे करे रिटर्न फ़ाइल? पूरी जानकारी हिंदी में

भी सभी जिलों में income tax form भरवाया जा रहा है, कुछ जिलों में ये शायद भर भी चुके होंगे, सभी नए साथी
जिसे अभी-अभी आठ वर्ष पुरे किये है, उनके मन भी कई सवाल है कि ये income tax  होता क्या है? कैसे रिटर्न फाइल की जाती है, ITR फॉर्म यानि Income Tax Return form क्या है? फॉर्म 16 और फॉर्म 16A क्या है, कौन-कौन इसके दायरे में आएगा, कैसे हम income टैक्स में छूट पा सकते है, किस-किस माध्यम से हम रिटर्न फाइल कर सकते है? TDS यानि टैक्स डिडक्टेड एट सोर्स क्या है? हम किस-किस माध्यम से रिटर्न फाइल कर सकते है?

इन्ही कुछ बेसिक सवालों पर जानकारी आपके सामने ला रहा हूँ उम्मीद है इससे आपको income tax के बारे में कुछ बेसिक जानकारी हो जायेगा।

1. Income Tax के दायरे में कौन आएगा?

इसके दायरे में कौन आएगा और कौन नहीं इसे नीचे टैक्स चार्ट से जानते है-
आयकर जो 60 वर्ष तक के व्यक्ति है उनके लिए निर्धारित आयकर नीचे टेबल पर देखिये-

 

 

जो 60 वर्ष से अधिक के व्यक्ति है यानि सीनियर सिटीजन है उनके लिए ये आयकर निर्धारित है-

 

जो 80 वर्ष से अधिक है यानि सुपर सीनियर सिटिज़न है उनके लिए ये आयकर निर्धारित है-

 

ऊपर टेबल से हम जान गए होंगे कि हम income tax के दायरे में आते है या नहीं।
कौन आएगा income tax के दायरे में?

जो नियमित शिक्षक है, जो साथी वर्ग दो में है और आठ वर्ष पूर्ण कर चुके है वह इसके दायरे में आएगा, जो शिक्षाकर्मी वर्ग 03 में है और आठ वर्ष पूर्ण कर चुके है, और केवल मासिक वेतन ही आय का साधन है वे नहीं आएंगे, किन्तु यदि आपका कोई अन्य साधन भी है आय का तो आप आ सकते है। जो आयकर के दायरे में आते है उन्हें क्या करना चाहिए, नीचे कुछ जानकारियां है कि कैसे हम आयकर से छूट पा सकते है, कैसे हम रिटर्न फाइल करे, और कैसे करे?

जो आयकर के दायरे में आते है उनके लिए जानकारियां-

आज जो भी नियमित शिक्षक और वर्ग दो में है वे शिक्षाकर्मी आयकर दे रहे है, आपके वेतन से आपका आयकर कट जाता है, लेकिन क्या इसका पावती है आपके पास? यानि फॉर्म 16 जो आफिस से आपको मिलना चाहिए, और जिसकी जरुरत जब आप रिटर्न फाइल करेंगे तो होगी, एक और बात क्या अभी तक आपने रिटर्न फाइल किया है? सुनने में आया है कि साल के अंत में वेतन से आयकर काटा जाता है उसी को आयकर दे दिए समझते है किन्तु प्रत्येक आयकर दाता को प्रत्येक वर्ष रिटर्न फाइल करना होता है, और आयकर दाता की ये व्यक्तिगत जवाबदेही है।
अब आप सोच रहे होंगे कि ये रिटर्न फाइल क्या है?  और कैसे इसे भरते है?

ITR यानि Income Tax Return  फाइल हमें प्रत्येक वर्ष भरना होता है,

रिटर्न फाइल के लिए जरुरी दस्तावेज-

1. ITR-1SAHAJ
ITR फाइल के लिए ITR-1(SAHAJ) फॉर्म का उपयोग किया जाता है, अलग-अलग व्यक्तियों के लिए अलग-अलग ITR फॉर्म होता है, नौकरीपेशा लोगों के लिए ये ITR-1(सहज) फॉर्म भरते है जिसे आप online इनकम टैक्स के वेबसाइट से डाऊनलोड कर सकते है, ध्यान दे कि इसकी प्रिंटिंग कलर्ड ही होनी चाहिए, black&white नहीं चलता, या आप मैनुअली खरीद भी सकते है।
2. फॉर्म 16-
ये वही फॉर्म है जिसे आपके नियोक्ता द्वारा आपको रिटर्न किया जाता है, फॉर्म-16 ही ये प्रूव करता है कि आपके नियोक्ता ने आपकी सैलरी से टी.डी.एस. काटा है, इनकम टेक्स के नियमानुसार भी नियोक्ता को अपने सभी कर्मचारियों को फॉर्म-16 दें। अगर नहीं मिला होगा तो आप एक निवेदन एक रजिस्टर्ड डाक के द्वारा दे ताकि बाद में इनकम टेक्स के द्वारा पूछा जाने पर आप सबूत के तौर पर दिखा सके।
3. फॉर्म 16A –
अगर मासिक वेतन के अलावा और किसी अन्य साधन से आपकी आय हुई है और उस पर टी.डी.एस. कट चुका है तो उसकी भी सर्टिफिकेट ले ले, जैसे आपकी ऍफ़ डी., रेंट पर, या शेयर पर।

4. सभी बैंक खातों का स्टेटमेंट तैयार रखे, आपकी जितनी भी अकाउंट्स है उन सबकी स्टेटमेंट होना चाहिए, अगर आपका जॉइंट अकाउंट है तो उसका भी स्टेटमेंट लगेगा।

5. सभी कटौतियां संबंधी दस्तावेज तैयार रखे, जैसे बच्चों की फ़ीस की रशीद, पी. पी. ऍफ़. मेडिक्लेम पॉलिसी की रशीद, इंश्योरेंस संबंधी दस्तावेज, लोन स्टेटमेंट आदि, कहने का मतलब आप टैक्स में छूट चाहते है उसके सम्बंधित समस्त दस्तावेज।

6. महत्वपूर्ण डॉक्यूमेंट आपका PAN नंबर , आधार नंबर, के साथ-साथ सभी अकाउंट का डिटैल यानि बैंक का नाम, खाता नंबर, IFSC कोड वगैरह।

ऊपर आपको तीन फॉर्म के बारे में जानकारी दिया था, जो income tax भरने के समय यानि रिटर्न फाइल करने के समय लगेगा,  ITR-1 (SAHAJ फॉर्म-16 और फॉर्म 16-A अगर आपको देखना है या प्रिंट निकालना है तो नीचे दिए है आप डाऊनलोड कर देख सकते है या प्रिंट भी निकाल सकते है।

कैसे करे रिटर्न फाइल?

रिटर्न फाइल हम दो तरीके से कर सकते है, 1 मैन्युअली 2 ऑनलाइन, दोनों के बारे में जानते है,

1. मैन्युअली कैसे करे रिटर्न फाइल?

इसके लिए हमें जरुरी फॉर्म यानि ITR-1 SAHAJ , form-16 और Form 16-A income tax के वेबसाईट से या तो डाऊनलोड कर ले या खरीद ले, उसके बाद इसे भरना है, इसके लिए आप किसी CA , वकील या किसी जानकर की मदद ले सकते है, इसे आप खुद भी भर सकते है लेकिन पहले टाईम कुछ दिक्कत आएगा, और यदि गलत भरकर दे दिए तो बाद में हमें ही परेशानी होगा। आप खुद भी बिना गलती किये भर सके इसकी जानकारी भी इस साईट पर उपलब्ध कराने की कोशिश की जायेगी, क्योंकि इस मामले में आत्मनिर्भर होना जरुरी है।

2. ऑनलाइन रिटर्न फाइल कैसे भरे?

ऑनलाइन रिटर्न फाइल भरने के लिए incomtaxindia.gov.in के साईट पर जाकर आपको ऑनलाइन फॉर्म की एक्सेल कॉपी डाऊनलोड करना पड़ेगा, और सावधानीपूर्वक भरना है, वैसे इसके लिए भी जानकारी होना बहुत जरुरी है, लेकिन ऑनलाइन ज्यादा आसान होता है ऑफ़लाइन से। वैसे भी जब आप मैनुअली जमा करेंगे तो उसे ऑफिस में ऑनलाइन ही जमा किया जायेगा। आप ऑनलाइन रिटर्न फाइल दाखिल कर सके इसकी भी जानकारी इस साईट पर प्रदान करने की कोशिश की जायेगी जिससे आप खुद जमा कर सके।

अब हम ये समझ गए कि रिटर्न फाइल के लिए डॉक्यूमेंट क्या लगेगा और कैसे करना है रिटर्न फ़ाइल तो हम टैक्स पर छूट पाने की भी जानकारी रखे।

कैसे पा सकते है income tax में छूट?

1. अगर आप किराये के घर पर रहते है तो HRA यानि हॉउस रेंट अलाउंस के तहत छूट पा सकते है।
2. सेक्शन 80C के तहत पेंशन प्लान पर आयकर में छूट पा सकते है।
3. बच्चों की ट्यूशन फिस पर भी आयकर में छूट पा सकते है।
4 Life Insurance पर आयकर में छूट पा सकते है।
5. PPF यानि पब्लिक प्राविडेड फंड पर भी टैक्स में छूट पा सकते है।
6. Home loan पर भी आयकर में छूट पा सकते है, यह एक अच्छा विकल्प होता है इन्वेस्ट करने का, Principal Ammount पर छूट मिलता है।
7. मेडिक्लेम पॉलिसी पर 20000 तक आयकर में छूट मिलता है।
हम इन सभी के द्वारा आयकर में छूट पा सकते है, और अधिक जानकारी के लिए आप किसी CA से संपर्क कर सकते है।

TDS क्या है?

ऊपर TDS शब्द का उपयोग हुआ है, आपके मन में ये भी सवाल होगा कि ये TDS क्या है? TDS यानि टेक्स डिडक्टेड एट सोर्स, अगर income tax TDS से ज्यादा है तो Refund हेतु क्लेम किया जाता है और यदि income tax TDS से कम है तो इस परिस्थिति में Advance Tax या Self Assesement Tax जमा करना होता है। इसके बारे में ज्यादा जानकारी हेतु CA से मिल सकते है।

कुछ मुख्य बातें-

हमने कुछ बेसिक्स income tax के बारे में जानकारी दिया, उम्मीद है आपको इससे कुछ मदद मिलेगा, आज नियमित शिक्षक हो या नए पुराने शिक्षाकर्मी जो आयकर के दायरे में आते है, वे income tax तो दे रहे है किन्तु रिटर्न फाइल नहीं कर रहे, जो अति महत्वपूर्ण है। फॉर्म 16 आपको उपलब्ध कराना नियोक्ता की जिम्मेदारी है इसे लेने के लिए आज से ही संघ के माध्यम से प्रयास होना चाहिए, और रिटर्न फाइल करना आपकी अपनी व्यक्तिगत जिम्मेदारी है, अगर आप आज तक रिटर्न फ़ाइल नहीं किये है तो आज ही CA या किसी जानकार से मिले, पूर्ण सलाह ले लें, क्योंकि बाद में हमें ही परेशानी होगी। धन्यवाद
टीम – shikshakarmi.in

 

Note-dont Copy It Copyrightकृपया इस पोस्ट को कॉपी कर व्हाट्सएप्प फेशबुक पर ना डाले। 

loading...

Comments

  1. By BABA KHAN

    Reply

  2. By deepak

    Reply

  3. By pappu singh

    Reply

    • Reply

      • By Parmod Chauhan

        Reply

        • Reply

  4. By anurag singh

    Reply

    • Reply

  5. By Ganpat

    Reply

  6. Reply

  7. By ankit gupta

    Reply

  8. By sanjay kumar bunkar

    Reply

Leave a Reply

  कमेंट करने हेतु निर्देश 
  • Name - यहाँ अपना नाम लिखें। 
  • Email - यहाँ अपना  ईमेल एड्रेस भरें 
  • Website - अगर आपका कोई वेबसाईट हो तो ही इसे भरें, नहीं तो इसे ख़ाली रहने दें। 
  • Comment- इस बॉक्स में अपना विचार लिखे। 
  • आप अपना विचार लिख सकते है। 
  • म्यूच्यूअल ट्रांसफर के लिए अपना डिटैल दे सकते है। 
  • इस वेबसाईट को और उपयोगी बनाने के लिए आप अपना सुझाव जरूर दें, हमें ख़ुशी होगी। 
  • आपका कमेंट हमारे अप्रूवल के बाद पब्लिश होगा, इसलिए बार-बार एक ही कमेंट ना करें। Thank You

Your email address will not be published. Required fields are marked *