शिक्षाकर्मी परिवार का गौरव श्री मोहिन्दर वर्मा shikshakarmi pariwaar ka gaurav shree mohinder verma

0

अक्सर सामाज का और शासन का हमारे प्रति नाकारात्मक रवैया देखा जाता है, वे शायद ये सोचते हैं कि हम निष्ठापूर्वक कार्य नहीं करते, जो सही नहीं है। ऐसे ही नजरिये को बदलने की एक छोटी सी कोशिश शिक्षाकर्मी चर्चा मंच द्वारा आप सबको समर्पित। इस पेज में हमारे ऐसे साथियों के उत्कृष्ट कार्यों को प्रस्तुत किया जाएगा जिसने अपने निष्काम सेवा से हम शिक्षाकर्मी परिवार को गौरवान्वित कर रहे है।

आज ऐसे ही एक साथी के उत्कृष्ट कार्य को प्रदर्शित किया जा रहा है। ये साथी है शास. पूर्व माध्य. विद्यालय परसिया, विकासखंड-पथरिया, जिला-मुंगेली में पदस्थ श्री मोहिन्दर वर्मा।

अन्य गांव की तरह ही परसिया भी शिक्षा के क्षेत्र में पिछड़ा हुआ था, गांव के लोग अक्सर पलायन हो जाते थे जिसके कारण उनके बच्चे भी साथ चले जाते इस तरह उनकी शिक्षा आधी बीच में ही रुक जाती किन्तु श्री मोहिन्दर वर्मा और उसके स्टॉफ के सतत् प्रयास से अधिकतर बच्चों के माता पिता को समझाकर बच्चों को साथ ना ले जाने हेतु राजी कर लिया गया। इस तरह शुरुआत हुई परसिया में बदलाव जो आज परसिया के बच्चे आज गुणवत्तापूर्ण और आधुनिक शिक्षा प्राप्त कर रहे है। और अत्यंत सराहनीय प्रयास-
1. शाला हेतु जनसहयोग से कम्प्यूटर खरीदना- कम्प्यूटर शिक्षा को बढ़ावा देने जन सहयोग से कम्प्यूटर ख़रीदा गया है जिससे आज परसिया के बच्चे मुफ़्त कम्प्यूटर शिक्षा प्राप्त कर रहे है।
2. सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता का आयोजन- श्री मोहिन्दर वर्मा जी ने प्रतियोगिता के महत्त्व को समझकर सरकारी स्कुल के बच्चों हेतु पहले संकुल स्तरीय, फिर विकासखंड स्तरीय  आयोजन कराया और इस वर्ष जिला स्तरीय सामान्य ज्ञान प्रतियोगिता कराने की तैयारी है जिसको सभी अधिकारियों और जनप्रतिनिधियो द्वारा काफी सराहा जा रहा है।
3. श्री मोहिन्दर वर्मा जी कार्यो को देखते हुए अभी कुछ दिन पहले एफ.एम. रेडियो पर साक्षात्कार आया था जिसे आप नीचे सुन सकते है।


साथियों ये सभी कार्य सामाज हित में है और निष्काम सेवाभाव हमारे ही बीच के साथियों द्वारा किया जा रहा है जो हम सबके लिए गौरव की बात है। इससे स्पष्ट होता है कि शिक्षाकर्मी परिवार आज समाज को नई दिशा और बच्चों का सुनहरा भविष्य गढ़ने में किसी भी तरह से पीछे नहीं है।

इसे भी पढ़ें – प्रतिभा के धनी शिक्षाकर्मी साथी महेतरु मधुकर

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here